कविता · Reading time: 1 minute

माँ

इक जहां
कई जुबानी
इक किरदार
कई कहानी
इक ही रक्षक
इक गुरु
इक ही दोस्त
इक गुरुर
इक माँ =कई किरदार

1 Comment · 35 Views
Like
13 Posts · 622 Views
You may also like:
Loading...