23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

माँ

मेरी हँसी तेरी ही पहचान सी होती है ,
तुम नही तो दुनिया ये अनजान सी होती है ।
हर एक माँ को सदा सलामत रखना ए मौला
ये एक माँ ही है जो पूरी जहान सी होती है ।

उनकी हर एक बातें इत्मिनान सी होती है ,
जिस घर में माँ ना हो वो वीरान सी होती है ।
ख़ुदा ने दिया है तुम्हें तो इज्ज़त किया करो
उनकी कमीं हर किसी को रोशनदान सी होती है ।

हर एक दिन उनके बिना बेज़ान सी होती है ,
दिन ढ़लती है मगर शामें बेईमान सी होती है
माँ के लिए वैसे तो कोई दिन मुकर्रर नहीं
हर एक वक्त हमारे लिए इम्तिहान सी होती है ।

ख्वाहिशों को पूरा करने की अरमान सी होती है ,
बचपनों की यादें भी अब उनवान सी होती है ।
मोहब्बतों को अब कही और न ढूंढो ‘हसीब’
ये वो है जहा मोहब्बतों की दुकान सी होती है ।

उनकी मोहब्बत भी सबके लिए आसमान सी होती है,
बहती दरिया भी कभी – कभी तूफ़ान सी होती है ।
माँ के लिए अब और लफ्ज़ क्या लिखूं ,
इक वही है जिसमें सारी बात जहान सी होती है ।

-हसीब अनवर

3 Likes · 2 Comments · 127 Views
Anwer Haseeb
Anwer Haseeb
Darbhanga(Bihar)
66 Posts · 2.8k Views
यादों के सिलसिले चलते ही रहते है , इश्क़ हो या मौत मिलते ही रहते...
You may also like: