माँ

माँ

धन्य धरा पर मां है मेरी

शब्द जहाँ में मां है मेरी

शीतल कोमल करूणा मन की

भारत माता तन है मां की ।

प्रत्यक्ष लक्ष्मी मां है घर की

धन -धान्य से घर को भरती

नव दुर्गा स्वरूप है रज की

भारत देश में मां है रहती ।

नौ माह का दर्द है सहती

लहू से सींचकर जन्म है देती

कष्ट सहन कर हंसती रहती

रूप देखकर खिल है उठती ।

मैं तुच्छ सा मानव जग का

चरण धरू मैं अपनी मां का

मैं तो ऋणी हूँ अपनी मां का

कैसे काव्य करू मैं मां का…नमन ।।

कवि –
धरम पटेल

पता – बाकरगंज मया पटेल गढ़

जिला – अयोध्या उत्तर प्रदेश भारत

मोबाइल नं – 9721381633/ 8318677295

ईमेल- dharmpatel319@gmai.com

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 58

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 16 Comment 82
Views 315

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share