23.7k Members 50k Posts

माँ

एक पल को भी जो मुझको नज़रों से ओझल होने न देती थी,
बचपन में जो मैं छुप जाता वो एक पल में ही रो देती थी,

ख़्वाबों की दुनियाँ में भी जब मैं डर कर सहम सा जाता था,
आकर सपनों में भी मेरा हाथ पकड़ वो लेती थी,

धुंधली धुंधली राहो में जब मैं धूमिल कभी हो जाता था,
अपने आँचल की छाया में लेकर मेरी वो उजली दुनियाँ कर देती थी,

छोटी छोटी चीजों को लेकर मैं रूठ कभी जो जाता था,
माँ खोल पल्लू में लिपटे सिक्कों से मेरे मन की कर देती थी॥

शकुन सक्सेना उर्फ़ राही अंजाना
काशीपुर उत्तराखण्ड

This is a competition entry.

Competition Name: "माँ" - काव्य प्रतियोगिता

Voting for this competition is over.

Votes received: 35

7 Likes · 37 Comments · 167 Views
राही अंजाना
राही अंजाना
काशीपुर उत्तराखण्ड
6 Posts · 183 Views
अध्यापक व कवि