** माँ **

जब से होश संभाला मैंने ,
माँ तुमको ही जाना है ।
दुनिया चाहे जो भी समझे ,
शुरू तुझ से हर फ़साना है ।।

माँ की ममता का मोल नहीं ,
ये अनमोल खजाना है ।
खुद चाहे सौ संकट झेले ,
संकट बच्चों तक नहीं आना है ।।

Like 4 Comment 0
Views 602

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share