माँ

माँ
Alka Keshari
Alka Keshari
कविता
Nov 24, 2018
माँ ममता की शीतल छाया,दरिया दिल होती है माँ।
घर वो मंदिर जैसा होता,जिस घर मे होती है माँ।।
💐💐💐💐
मीठी-मीठी लोरी गाती, थपकी देकर हमे सुलाती,
अपने आँचल की छाया में,सुंदर से सपने दे जाती।
मेरे हर तकलीफों पर तो, दर्द लिए रोती है माँ।
घर वो मंदिर…………………………… ।।
💐💐💐💐
मेरे ख़ातिर दुःख सह जाती,पर मुख सेकुछ न कह पाती,
सूखे बिस्तर हमको देकर,गीले पर वो खुद सो जाती।
त्याग तपस्या की प्रतिमूर्ति, निर्मल सी होती है माँ।
घर वो मंदिर…………………………… ।।
💐💐💐💐
दर्द जरा सा होता हमको,माँ की याद सताती है,
संस्कार के पथ पर देखो,माँ हीं हमे चलाती है।
कैसे होंगे वे सब बच्चे, जिनकी न होती हैं माँ।
घर वो मंदिर…………………………..।।
💐अलका केशरी💐

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 25

Like 6 Comment 29
Views 154

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share