23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

माँ

माँ-माँ का क्या कहना हैं!माँ तो माँ हैं, बचपन से साथ हैं,उम्मीदों से व्याकुल हैं,सुनहरी सी कोमल हैं!सबसे प्यारी माँ हैं,हर दिन हर पल रहती साथ हैं,खुशियों से हर हर खुशियाँ देती हैं,रोज़ रोज़ जब बचपन में गिरते उठते थे, पर माँ ने उँगली पड़कर ही चलना सिखाया हैं,माँ कोमल सी मधुर सी शीतलता हैं,माँ हमेशा से खुशियों कि घर कि अपनों कि हम सबकी जननी हैं,माँ वो हैं जो अनमोल हैं,माँ विनम्र हैं,माँ सबसे प्यारी हैं!!
I love❤️you mom

1 Like · 7 Comments · 22 Views
Hardik Mahajan
Hardik Mahajan
Khargone Madhya Pradesh
35 Posts · 399 Views
Writer
You may also like: