Nov 22, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

माँ

माँ ने मुझको दिखलाई है इस संसार को
माँ ने मुझमे रग रग भर दी संस्कार को
रात को भी माँ जग जग कर दूध पिलाती थी
मेरे लिए गीली बिस्तर पर सो जाती थी
सब कुछ माँ के अनुकूल तैयार करो
सबसे बड़ी शक्ति है माँ, माँ को प्यार करो ।

माँ की अंगुली पकड़ कर खड़ा हुआ
माँ के पद चिन्हो पर चल कर बङा हुआ
माँ के शब्दो से बोलना और हँसना सीखा
माँ के कर्मो से ही दुनिया में सुंदर दिखा
माँ के जैसा कोई नहीं है इसे स्वीकार करो
सबसे बड़ी शक्ति है माँ, माँ को प्यार करो।

ज्ञान के सागर को गागर में समाई है
मानवता का रास्ता माँ ने ही दिखलाई है
बङा हुआ हूँ अब माँ की सेवा करना है
जीवन में माँ का कुछ तो कर्ज चुकाना है
सब कार्यो के लिए माँ से भी विचार करो
सबसे बड़ी शक्ति है माँ, माँ से प्यार करो ।

जय प्रकाश निराला
नवादा ( बिहार )
M/W- 9708618984

Votes received: 54
14 Likes · 77 Comments · 549 Views
Jay Prakash Nirala
Jay Prakash Nirala
1 Post · 549 Views
जय प्रकाश निराला माध्यमिक शिक्षक ( बिहार सरकार ) गांव - गोन्दापुर पोस्ट - नवादा... View full profile
You may also like: