.
Skip to content

माँ

sunita saini

sunita saini

कविता

May 25, 2017

हूँ मै खुद के साथ या हूँ तेरे साथ इसका मुझे पता नहीं |
रहती हूँ, जहाँ भी मैं बन लहूँ रगो का मेरी दौडती रहती मुझमे तू हर कही माँ |
“माँ ”
दिल करता है, तेरी साँसों से अपनी साँसें जोड दूँ |
दे अगर इजाजत तेरे संग रहने की तो उस रब से भी नाता तोड दूँ |
” माँ ”
मेरे हर लफ़्ज़ॊ में तू रहती है |
मेरी हर दुअा में ही तू दिख़ती है |
“माँ ”
तेरी पनाहों में थी तॊ दुनिया भी जन्नत लगती थी |
अब तो दुनिया की हर रंगत फ़ीकी लगती है |
“माँ ”
तू थी तो दिल की हर मुराद पुरी लगती थी |
अब तू नहीं तो दिल की हर मुराद अधू री लगती है |
“माँ ”
तेरी यादॊ का सैलाब आँखों से बन आँसू बहता है |
क्यों हरपल तेरी यादॊं का सैलाब मुझे रुलाता है |
“माँ ”
“तुझसे बहुत प्यार करती हूँ माँ ”
” प्रणाम माँ “

Author
sunita saini
नाम - सुनीता सैनी जन्म स्थान - बानसुर, जन्म तिथी - 6/8/1989
Recommended Posts
माँ मेरी माँ
???? माँ मेरी माँ, मुझे छोड़ के मत जाओ कुछ दिन तो मेरे साथ बिताओ। माँ मैं तुम बिन अकेली हो जाती हूँ, जब तुम... Read more
ओ माँ, ऐ माँ, ....................|गीत| “मनोज कुमार”
ओ माँ, ऐ माँ, मेरी माँ, ओ माँ मेरी किस्मत का खजाना तू ही तू ही माँ इन आँखों की खुशियाँ रहमत तू ही माँ... Read more
एक बेटी की अपनी माँ से अपेक्षा
मेरी एक अपेक्षा मेरी माँ से कि माँ क्यूँ तू मुझे अपना बेटा नहीं समझती, क्योंकि देखा है तेरी आँखों में मैंने एक बड़े बेटे... Read more
पुकार- एक बेटी की
माँ...माँ...माँ .. कौन...? माँ...मैं हूँ तुम्हारे अंदर पल रहा... तुम्हारा ही अंकुर... जिसे तुमने....हाँ तुमने... कितनी ही रातें...कितने ही दिन.. अपने अरमानों सा... पाला है...... Read more