माँ

कोई शब्द नहीं जो
तुमको बयान करे
लेखनी की बिसात नहीं
जो तुम्हे परिभाषित करे
अम्बर ये कागद हो जाये
तब भी तुम लिखी न जाओ
तुम असीमित अपरिमित
रोम रोम मे समाई हो
तुम संबल बन साथ रहो
इतनी सी चाहत है
तुम्हारा ही प्रतिबिंब बनूँ
ये आशीर्वाद दे दो माँ ।

अनिता सुधीर श्रीवास्तव
लखनऊ

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 56

Like 5 Comment 36
Views 202

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing