Nov 19, 2018 · कविता

माँ

कोई शब्द नहीं जो
तुमको बयान करे
लेखनी की बिसात नहीं
जो तुम्हे परिभाषित करे
अम्बर ये कागद हो जाये
तब भी तुम लिखी न जाओ
तुम असीमित अपरिमित
रोम रोम मे समाई हो
तुम संबल बन साथ रहो
इतनी सी चाहत है
तुम्हारा ही प्रतिबिंब बनूँ
ये आशीर्वाद दे दो माँ ।

अनिता सुधीर श्रीवास्तव
लखनऊ

Voting for this competition is over.
Votes received: 56
5 Likes · 36 Comments · 210 Views
You may also like: