माँ

माँ…

आँसू भी रो देते हैं जब , याद तुम्हारी आती है ,
बेहाल हमें कर देते हैं ,जब याद तुम्हारी आती है ….

ओ माँ मेरी एक बार तो आ ,सीने से लगायेंगे तुझको ,
हर बार लगाया है तूने हमें , हम आज लगायेंगे तुझको …..

अपनापन तुझसा मिला कहाँ , मिल आके.. सुनायेंगे तुझको …..
तेरे जाने से क्या-क्या गुजरी..आ बैठ बतायेंगे तुझको….

बात बात पर तेरा टोकना , उस वक़्त बुरा तो लगता था ,
पर आज समझ में आता है , हर बात का कुछ तो मतलब था …..

ओ माँ एक बार तो आ जाते, हर हाल तुम्हे हम बतलाते ,
मौसम और मुल्क की बात नही अंदर की हालत समझाते …..

लगता है जाने से तेरे , दुनिया खाली ,सुनसान हुआ ,
इन बेकदरों की भीड़ में जैसे, कोई बच्चा गुमनाम हुआ ….

अमरावती गुप्ता …..
सिलीगुड़ी

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 47

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 13 Comment 64
Views 385

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share