23.7k Members 49.9k Posts

माँ

(माँ )
गीत*
जब तक हैं माँ घर के अंदर ,रोशन कोना कोना है |
माँ की ममता से हर घर, हों जाता सोना सोना है ||

माँ की गोद है नर्म बिछौना- लोरी सुन सुन सोता हूँ |
माँ का आँचल जब ना मिलता,मैं जोर जोर से रोता हूँ ||
*जब तक माँ ना आजाती है,सारे घर में रोना है ……

माँ का आँचल इतना बड़ा है ,जैसें नीला है अम्वर |
प्यार का सागर हरदम रहता ,माँ के ह्रदय के अंदर ||
माँ की ममता जिसें मिलजाये,उसका जीवन सोना है …

बचपन होये या होये जवानी,जब चोट हमें लग जाती है |
इधर चोट लगते ही माँ की ,उधर छाती हिल जाती है ||
गीलें में माँ खुद सोती है ,हमकों सूखा देती बिछौना हैं…..

जिस बेटे के पास है माता ,वो सुख की दौलत पाता हैं |
माँ को दुःख पहुँचानें वाला , दर दर की ठोकरें खाता है ||
माँ की ममता के आगें ये , जग सारा लगता बोना हैं…..

माँ के दूध का कर्ज़ कोई, जग में नहीं चुका पाया |
सारे संकट दूर रहें , जब तक थी माँ की छाया ||
जिसने माँ का किया निरादर ,उसकों “घायल” होना है……
********कवि अशोक गौतम- भोपाल

This is a competition entry.

Competition Name: "माँ" - काव्य प्रतियोगिता

Voting for this competition is over.

Votes received: 25

Like 6 Comment 38
Views 61

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
पं.अशोक गौतम
पं.अशोक गौतम
1 Post · 61 View