माँ

माँ
हकीमों से तो लगता है मुझे माँ का जिगर अच्छा |
हजारों इन दवाओं से जो होता है असर अच्छा |
बतादे राज मुझको माँ यहाँ आखिर छुपा क्या है,
तेरी गोदी में रखते ही मेरा हो जाये सर अच्छा |
चुका कर्जा नहीं माँ का फकत रोटी खिलाने से,
दिया अमृत पिलाने का उसे रब ने हुनर अच्छा |
फिराके हाथ सर पर माँ करे जादू तू क्या ऐसा,
निकलता पैर छू करके तो कटता है सफर अच्छा |
सभी रिश्ते तो मतलब के टिके ख़्वाहिश पे होते हैं,
वजह बस माँ के होने से लगे मुझको ये घर अच्छा |
लगे ना धूप बद की तू रहे हर वक्त साया बन,
नहीं देखा कहीं हमने ये माँ जैसा शजर अच्छा |
‘मनुज’मन्दिर न मस्जिद में न गुरुद्वारे में जा बेशक,
जहाँ पर माँ तुम्हारी है खुदा का वो ही दर अच्छा |
मनोज राठौर मनुज,
पता-शाहपुर ब्राह्मण, बाह, आगरा

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 58

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 13 Comment 82
Views 227

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share