23.7k Members 49.9k Posts

माँ

माँ ममता की प्रतिमूर्ति स्स्नेहिल रूप दिखाती माँ.
अंगुली पकड़ चलना सिखाती सारे लाड़ लडाती माँ
कभी-कभी वह कान खींचती गलतियों पर धमकाती माँ
दुनिया की इस पाठशाला के क ख ग सिखाती माँ
भले-बुरे का ज्ञान कराती प्रथम गुरु कहलाती माँ
सहनशीलता और त्याग की सीमा भी लांघ जाती माँ
खूब खिलाती बच्चों को खुद भूखी रह जाती माँ
रक्षक बनकर बुरी दिशा से अच्छी राह ले जाती माँ
संस्कारों की घुट्टी देकर चरित्रवान बनाती माँ
बाधाओं से लोहा लेना आत्मविश्वास जगाती माँ
हम जितने दुख देते माँ को हँसकर सब सह जाती माँ
कितना कर्ज है मेरा तुम पर कभी नहीं जतलाती माँ
– – अश्वनी शांडिल्य चंडीगढ़

This is a competition entry.

Competition Name: "माँ" - काव्य प्रतियोगिता

Voting for this competition is over.

Votes received: 28

Like 3 Comment 21
Views 77

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Ashwani Shandilya
Ashwani Shandilya
1 Post · 77 View