Nov 12, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

माँ

माँ की डाँट पर जो फुटकर रोये थे
फिर माँ के आंचल में लिपट के सोये थे
चंदा मामा की लौरी के साथ माँ की थपकी
नींद में खो जाते थे लेते ही झपकी ।

जिसने खुद जागकर हमें सुलाया
दुनिया से खाकर ठोकर भी सिने से लगाया
खुद प्यासी मरती रही पर पानी हमें पिलाया
भूख से करवट बदलती रही
पर खाना हमें खिलाया ।

माँ के इस क़र्ज़ को इसतरह दुनिया निभाई
बीवी हुई अब अपनी माँ हुई पल में पराई
माँ के क़र्ज़ को किसकदर चूका पाओगे
लाख जन्म लेकर भी कर्ज़दार ही रह जाओगे ।

माँ के इस बलिदान पर जब भी मैंने कलम उठाई
हारा हुआ पाया खुद को कुछ समझ ना पाया
बड़ा बेरहम है ज़माना क्या इसे समझा पाओगे
क्या अमित माँ के इस क़र्ज़ और बलिदान को हक़ दिला पाओगे ।

Votes received: 25
4 Likes · 16 Comments · 175 Views
Copy link to share
Amit Mishra
1 Post · 175 Views
You may also like: