23.7k Members 49.9k Posts

माँ

उस के कृत्य बताना बहुत कठिन सा लगता है,
पैरों का स्थान भी हमको हरिद्वार सा लगता है।

दर्द भरे उसके उन पलों को कैसे बतलाऊं,
नौ माह रखा है गर्भ मे तुमको कैसे समझाऊं।

अम्बर और पर्वत भी उसके समक्ष झूक जाता है,
धीमी पड़ जाती हैं पवने और तूफा भी रुक जाता है।

जब अपने पैर अपने ना हुए तुमने चलना सिखलाया,
पानी को मम मम कहना ही तुमने हमको बतलाया।

मात पिता का ज्ञान ना था सब अंजान से लगते थे,
घर आँगन मे खुशियों के कुछ अरमान से दिखते थे।

गिर के उठना और संभलना तुमसे ही तो सीखा है,
सम्मान बड़ो का करना वो भी तुमसे ही सीखा हैं।

ममता की मूर्त है माँ यह सब को बतलाया जाता है,
फिर भी उस मूर्त को वृद्धाश्रम छुड़वाया जाता है।

माँ तड़प तड़प कर अहर्निश आँखों से अश्क बहाती है,
फिर भी हमको परदेश मे माँ की याद नहीं रुलाती है।।
धीरेन्द्र सिंह
बरेली(उत्तर प्रदेश)

This is a competition entry.

Competition Name: "माँ" - काव्य प्रतियोगिता

Voting for this competition is over.

Votes received: 114

Like 9 Comment 68
Views 603

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
DHEERENDRA SINGH
DHEERENDRA SINGH
Bareilly Uttar Pradesh
1 Post · 603 View
सामाजिक और ओज कवि बरेली उत्तर प्रदेश जन्म-01/07/1999 उम्र-19 वर्ष "यह जो नफ़रतों की दीवार...