Nov 7, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

माँ

माँ
————————

ऐ माँ
तूने ना जाने कितनी दुआऐं मेरे लिये मांगी थी कि,
मेरे हर कदम पे तेरी; तेरी दुआयें साथ चलती हैं ।

मैं गिर पडुं; इससे पहले ही तेरी दुआऐं मुझे थाम लेती हैं।

ऐ माँ
यदि तुझे शब्दों में लिखुं ,
सबसे सुन्दर शब्द है तू,

यदि तुझे गा के पुकारुं ,
सबसे सुन्दर राग है तू

ऐ माँ
तेरे आँचल से बडा आसमाँ भी क्या होगा
रब भी तुझे देख हैरां होता होगा
ऐ माँ
ऐ माँ

सुमित्रा ‘अपराजिता’
मौलिक ‘स्वरचित’ ओड़िसा ‘भूवनेश्वर’

Votes received: 34
4 Likes · 37 Comments · 138 Views
Copy link to share
Sumitra Agarawalla
Sumitra Agarawalla
1 Post · 138 Views
Nature lover..Poet and writer View full profile
You may also like: