Nov 7, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

माँ

माँ जैसा नही कोई दूसरा जग में,
माँ बनने पर ही समझ ये आती।
नौ महीने खून गर्भ में पिलाया,
स्वस्थ बच्चा हो हर परहेज करती।
पैदा होने पर खशियाँ ही खुशियाँ,
पीड़ा को भुला शिशु को निहारती।
बच्चे का जीवन बनाने में ही लगी,
जिंदगी बिना थके सफल हो जाती।
सफल हो जाये बच्चे बस सपना,
देख दिनरात ईश्वर से दुआ मांगती।
इस माँ का दिल न दुखाना कभी,
माँ के बिना जीवन बेकार है खाली।

Votes received: 894
96 Likes · 183 Comments · 8289 Views
Copy link to share
Tr Abhineelu Joon
1 Post · 8.2k Views
अध्यापिका हरियाणा सरकार में,समाज सेविका,भारतीय मानव अधिकार सरंक्षण संघ की प्रदेशाध्यक्ष, समाज मे हर जरूरतमंद... View full profile
You may also like: