माँ

अवधूत के ह्रदय में नित गूँजती गुँजन हैं माँ !
अलख सृष्टी के आशाओं की नित्य निरंजन हैं माँ !

फुलों के अंतरंग में फ़ुहारती मधु गंगा हैं माँ !
सुगंध से निखरती सुगंध की सुंदरता हैं माँ !

सूर्यमा की किरणों से खिलता शुद्ध आनंद हैं माँ !
श्वेत हिमनगों से मुस्कुराता दिव्य आलोक हैं माँ !

शशी से उमड़ता जीवन का अमृतरस हैं माँ !
पत्तों के तन पे सजती रोशनी की कविता हैं माँ !

मिट्टी के आँखों में पनपता बीज़ का सपना हैं माँ !
रात के गर्भ में सोया उषा का नया सवेरा हैं माँ !

विराट विश्व के गतिशीलता की परिभाषा हैं माँ !
सृष्टी के संगीत की तू सगुन संगीतकार हैं माँ !

“छोटे-से मन से कैसे तेरे अनंत गुण गाऊं माँ !
अच्छा यही हैं की औरों की सुनता मैं मौन रहू माँ ! “

—-उमेश नारायण चव्हाण
कर्जत, रायगड, (महाराष्ट्र)

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 98

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 23 Comment 122
Views 555

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share