कविता · Reading time: 1 minute

माँ

अवधूत के ह्रदय में नित गूँजती गुँजन हैं माँ !
अलख सृष्टी के आशाओं की नित्य निरंजन हैं माँ !

फुलों के अंतरंग में फ़ुहारती मधु गंगा हैं माँ !
सुगंध से निखरती सुगंध की सुंदरता हैं माँ !

सूर्यमा की किरणों से खिलता शुद्ध आनंद हैं माँ !
श्वेत हिमनगों से मुस्कुराता दिव्य आलोक हैं माँ !

शशी से उमड़ता जीवन का अमृतरस हैं माँ !
पत्तों के तन पे सजती रोशनी की कविता हैं माँ !

मिट्टी के आँखों में पनपता बीज़ का सपना हैं माँ !
रात के गर्भ में सोया उषा का नया सवेरा हैं माँ !

विराट विश्व के गतिशीलता की परिभाषा हैं माँ !
सृष्टी के संगीत की तू सगुन संगीतकार हैं माँ !

“छोटे-से मन से कैसे तेरे अनंत गुण गाऊं माँ !
अच्छा यही हैं की औरों की सुनता मैं मौन रहू माँ ! ”

—-उमेश नारायण चव्हाण
कर्जत, रायगड, (महाराष्ट्र)

23 Likes · 122 Comments · 624 Views
Like
1 Post · 624 Views
You may also like:
Loading...