23.7k Members 50k Posts

माँ

हमारी जिंदगी की शुरुवात
माँ के गोद से होती है
हम जो रोते है
तो दर्द माँ को भी होती है
देखी जो थोड़ी सी बेचैनी
तो ममता फफक पड़ती है
कोई शक नही इसमें
माँ तो ममता की मूरत होती है

नौ महीने रहते हम कोख में
साल भर रहते जिसकी गोद में
एक एक कदम जिसने
हमको चलना सिखाया
टूटे हुए शब्दों को
जिसने हमे जोड़ना सिखाया
प्यार भरे हाथो से हमे
जिसने दुलार के खिलाया है
उसकी ममता ने ही
उसे माँ कहलवाया है

लेखक
धनराज खत्री

शपथ पत्र

यह मेरी स्वरचित एवं मौलिक रचना है जिसको प्रकाशित करने का कॉपीराइट मेरे पास है और मैं स्वेच्छा से इस रचना को साहित्यपीडिया की इस प्रतियोगिता में सम्मलित कर रहा/रही हूँ।
मैं साहित्यपीडिया को अपने संग्रह में इसे प्रकाशित करने का अधिकार प्रदान करता/करती हूँ|
मैं इस प्रतियोगिता के सभी नियम एवं शर्तों से पूरी तरह सहमत हूँ। अगर मेरे द्वारा किसी नियम का उल्लंघन होता है, तो उसकी पूरी जिम्मेदारी सिर्फ मेरी होगी।
साहित्यपीडिया के काव्य संग्रह में अपनी इस रचना के प्रकाशन के लिए मैं साहित्यपीडिया से किसी भी तरह के मानदेय या भेंट की पुस्तक प्रति का/की अधिकारी नहीं हूँ और न ही मैं इस प्रकार का कोई दावा करूँगा/करुँगी|
अगर मेरे द्वारा दी गयी कोई भी सूचना ग़लत निकलती है या मेरी रचना किसी के कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो इसकी पूरी ज़िम्मेदारी सिर्फ और सिर्फ मेरी है; साहित्यपीडिया का इसमें कोई दायित्व नहीं होगा|
मैं समझता/समझती हूँ कि अगर मेरी रचना साहित्यपीडिया के नियमों के अनुसार नहीं हुई तो उसे इस प्रतियोगिता एवं काव्य संग्रह में शामिल नहीं किया जायेगा; रचना के प्रकाशन को लेकर साहित्यपीडिया टीम का निर्णय ही अंतिम होगा और मुझे वह निर्णय स्वीकार होगा|

This is a competition entry.

Competition Name: "माँ" - काव्य प्रतियोगिता

Voting for this competition is over.

Votes received: 25

3 Likes · 39 Comments · 108 Views
Dhanraj Khatri
Dhanraj Khatri
Bilasapur chattisgarh
4 Posts · 127 Views