23.7k Members 50k Posts

माँ

माँ
माँ को होती तीसरी ऑंखें
बालक का दिल उसमें झाँके
बच्चों की हर आहट माँ पहचाने
उसकी हर सांसो को जाने.

ताल-छंद छौने के वो जाने
उसके सरगम के सुर पहचाने
सरगम के सुर जहाँ कटे
माँ का ध्यान झट बटे .

मिल जाए माँ का स्पर्श
हर विध्न से कर ले संघर्ष
जीवन बन जाए सुखदायी
पास जब हो माँ आनंददायी .

माँ है जीवनदायिनी
हर सुख प्रदायिनी
सर्व कष्ट निवारिणी
उज्ज्वल पथ प्रदायिनी

शुभ्रा श्रीवास्तव
पटना (बिहार )

This is a competition entry.
Votes received: 5
Voting for this competition is over.
4 Likes · 8 Comments · 26 Views
Priyanka Shrivastava
Priyanka Shrivastava
1 Post · 26 View
You may also like: