माँ

जब तलक माँ साथ थी, आनंद का आधार था|
मातृ-शुभआवाज में अनुपम सु-पावन प्यार था|
वह गई, कुछ खो गया, उर रो गया, यादें बचीं|
लग रहा जननी-हृदय सद्प्रीति का अवतार था|

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

उर=हृदय

129 Views
1) प्रकाशित कृतियाँ 1-जागा हिंदुस्तान चाहिए "काव्य संग्रह" 2-क्रौंच सु ऋषि आलोक "खण्ड काव्य"/शोधपरक ग्रंथ...
You may also like: