Nov 3, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

माँ

संघर्ष की देवी माँ है मेरी,
जिसने हर शाम मेरी सवेरी,
वह तो है एक तना,
जिसने है मुझे जना,
उसने कभी न मानी हार,
मेहनत से की है नय्या पार,
बदलती रही समय की फेरी,
संघर्ष की देवी माँ है मेरी।

ज़िन्दगी से भी प्यारी है,
हर छवि उसकी न्यारी है,
उसकी सादगी है सबसे सच्ची,
दुनिया मे है वो सबसे अच्छी,
ममता है अनोखी तेरी,
संघर्ष की देवी माँ है मेरी।

वह तो एक वरदान है,
मेरी एक पहचान है,
उसके बिना कुछ नही है मेरा,
वो है हर दिन का सवेरा,
तू तो बस जान है मेरी,
संघर्ष की देवी माँ है मेरी।

4 Likes · 5 Comments · 138 Views
Gargi Arya
Gargi Arya
2 Posts · 175 Views
Principal Green Light Sr Sec Public School View full profile
You may also like: