माँ

जब भी आता हूँ घर से मैं,
यूँ क्षुब्ध होकर देखती है मेरी माँ
जैसे बिछड़ रहा हो
उसका चाँद आज गगन से।

वो माँ की आँखों के निशब्द आँसू,
ममता वाला वो आँचल,
जिसमें छिपा है आज भी मेरा बचपन,
क्यों न मैं उसको अपना चार-धाम मानूँ?

जब-जब भी भटका हूँ अपने पथ से,
एक तूने ही तो थामा है मुझको माँ,
मेरी नज़रें बस तुझको ढूँढें,
तू ही तो है मेरा संसार माँ।

कैसे भूल सकता हूँ
मैं उस माँ की ममता को,
सींच दिया था जिसने
जीवन से अपने मुझको।

मेरे जीवन का एक-एक कतरा
‘माँ’ समर्पित तुम्हारे चरणों में,
नहीं चुका सकता मोल तुम्हारा,
‘उपमन्यु’ अगले सौ जन्मो में।

विकास उपमन्यु
बिजनौर, उत्तर-प्रदेश

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 82

Like 25 Comment 92
Views 480

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing