23.7k Members 49.9k Posts

माँ ही जन्नत

माँ
जिसे जुबां से पुकारने मे ही मिले राहत है ।
माँ जिसके चरणो मे ही है मिले जन्नत है ।
माँ ममता का जीता जागता स्वरूप है ।
माँ जग मे रब का ही दूसरा रूप है।
माँ भिन्न कुछ कहे सब जान जाती है ।
माँ हर दुआ बच्चो के लिए मांगती है ।
माँ जिसकी व्याख्या मे हर शब्द छोटा लगता है ।
माँ जिसके सामने सबका ही सिर झुकता है ।
माँ है तो आज हम सब ओर दूनिया है ।
माँ से ही तो हर मकान घर बनता है ।
माँ के पैर छू जब घर से कोई निकलता है ।
माँ के आशिर्वाद से सब काम बनता है।

This is a competition entry.
Votes received: 50
Voting for this competition is over.
4 Likes · 38 Comments · 359 Views
Mohan Bamniya
Mohan Bamniya
Panipat Haryana
138 Posts · 918 Views
प्रणाम दोस्तों मै एक साधारण जीवनशैली का व्यक्ति हूँ ।मैं कोई बड़ा लेखक-कवि नहीं हूँ...