Skip to content

माँ हिंदी की पुकार।

तेजस केंवट

तेजस केंवट

कविता

November 13, 2017

माँ हिंदी की पुकार।

नहीं लिखूंगा कुछ भी, आजकुछ भी नहीं सुनाने को,

फर्क नहीं पड़ता आहों से मेरी अंधे,बहरे, गुलामो को ।

ना मातृभूमि के हो सके, ना माँ के आँचल के,

वो क्या लाज रखेंगे मेरी, जो रख न सके घर आँगन के।

अपाहिज़ है खुद ही सोच जिनकी वो क्या देंगे सहारा मुझको,

खुद ही लाज बचाना होगा फिर दुबारा मुझको ।

संस्कृति सभ्यता उठो  जागो मेरे संतान,

संभालो खुद को बदल रहा है हिंदुस्तान।

सब रखवाले बने गये मतवाले ,कहीं

विलुप्त न हो जाये कदमो के निशान ।

#हिन्दी दिवस अवशेष

तेजस- एक साहित्य अभियंता ।

Author
तेजस केंवट
An Engineer With Arts
Recommended Posts
माँ ......
माँ... माँ जीवन का आगाज़ है, माँ एक जीने का अंदाज़ है| माँ... माँ अपनेपन की आवाज़ है, माँ आनंद की आभास है| माँ... माँ... Read more
माँ मेरी भाग्य विधाता है
मैं तेरे चरणों की धूल माँ मेरी भाग्य विधाता है इस जहाँ में मेरा माँ से जन्मों का नाता है माँ ने मुझको जन्म दिया... Read more
मेरी नानी माँ
?????? माँ तो प्यारी है मुझको पर माँ से प्यारी नानी माँ माँ ने मुझको जन्म दिया पर पाली - पोसी नानी माँ। ? भर... Read more
!!! गर्भ की आवाज !!!
माँ, जरा एक बार सुन तो ले मेरी पुकार क्या यही है तेरा वो संसार जिस के लिए तुमने मुझ को यह दिखाने के लिए... Read more