.
Skip to content

माँ ( हाइकु )

प्रदीप कुमार दाश

प्रदीप कुमार दाश

हाइकु

July 1, 2017

प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
———————————-
हाइकु
01.
माँ का आँचल
छँट जाते दुःख के
घने बादल ।
—0—
02.
खुशियाँ लाती
तुलसी चौंरे में माँ
बाती जलाती ।
—0—
03.
छोटी दूनिया
पर माँ का आचल
कभी न छोटा ।
—0—
04.
दुआएँ माँ की
ये अनाथों को कहाँ ?
मिले सौभाग्य !
—0—
05.
लिखा माँ नाम
कलम बोल उठी
है चारों धाम ।
—0—
-प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
Mob. 7828104111
____________________________

Author
प्रदीप कुमार दाश
हाइकुकार : ♢ प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ♢ सम्प्रति : हिन्दी व्याख्याता 13 कृतियाँ : -- मइनसे के पीरा, हाइकु चतुष्क, संवेदनाओं के पदचिह्न, रुढ़ियों का आकाश, हाइकु वाटिका, हाइकु सप्तक, हाइकु मञ्जूषा, झाँकता चाँद, प्रकृति की गोद में, ताँका... Read more
Recommended Posts
माँ
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ------------------ माँ 01. माँ का आँचल छँट जाते दुःख के घने बादल । --0-- 02. खुशियाँ लाती तुलसी चौंरे में माँ... Read more
हाइकु : ओस प्रसंग
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ~•~•~•~•~•~•~•~•~ हाइकु : ओस प्रसंग 01. भोर का बिम्ब पंखुड़ी बन गई ओस प्रसंग । ---0--- 02. कविता प्यारी हरी पत्तियों... Read more
माँ नियति है
" माँ नियति है " ------------------- माँ गीता... माँ कुरान है ! माँ आन-बान और शान है | माँ ममता है माँ त्याग है !... Read more
दो सेदोका
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ----------------- दो सेदोका 01. दीपक जला रोशन कर चला वह जग समूचा राह दिखाता थकी, हारी व झुकी निविड़ तम निशा... Read more