माँ, हर बचपन का भगवान

माँ, हर बचपन का भगवान |
सजग सुकोमल मनभावन ममता का अमल वितान |

जित देखो उत प्रेम-फुहारों से भरती सुत का दिल |
सदा सुहावन लोरी गाकर, बनी गुणी सह काबिल |
निद्रा की पुचकार -प्रदातारूपी बनी विधान |
माँ हर बचपन का भगवान |

शांति और अपनापन के आभारूपों का सावन |
माँ-अंदर देखा ममतामय ऊँचा दिल मनभावन |
सारी दुनिया से उत्तम माँ-आँचल का परिधान |
माँ, हर बचपन का भगवान |

पावन ज्ञान-ध्यान को तजकर बनी सदा वह मेरी |
तू-तू मैं-मैं के काँटों में प्रेम-बेर की ढेरी –
जैसी बनकर छाई दिल में, तज कर सकल गुमान |
माँ, हर बचपन का भगवान |
……………………………………………………..

पं बृजेश कुमार नायक
सुभाष नगर कोंच
केदारनाथ दूरवार स्कूल के पास
कोंच, जिला-जालौन, उ प्र ,पिन 285205

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 32

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 7 Comment 56
Views 264

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share