31.5k Members 51.9k Posts

माँ शारदे

Jun 24, 2016 03:11 PM

1
थाम लो ये हाथ दो वरदान हे माँ शारदे
रख सकूँ कुछ लेखनी का मान हे माँ शारदे
कंठ में भी आ विराजो माँ कृपा कर आप ही
गा सकूँ बस आपके गुणगान हे माँ शारदे

2
मिलता हमको वो नही जो ढूंढते हैं
या जो होता ही नहीं वो ढूंढते हैं
है दिखावा आज जग में हर तरफ ही
आज हम खुद में भी खुद को ढुँढतें हैं
डॉ अर्चना गुप्ता

1 Comment · 67 Views
Dr Archana Gupta
Dr Archana Gupta
मुरादाबाद
941 Posts · 96.6k Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी प्यारी लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी,...
You may also like: