माँ मैं धन्य हो गया..

माँ मैं धन्य हो गया…2
प्यार से लोरी सुनते-सुनते…..माँ मैं धन्य हो गया…।

मैं तेरे आँचल में सोया..
मन में जब आया ख़ुशी हुआ ।
मन में जब आया ख़ूब रोया,
न मैंने कष्ट कभी झेला तब रहा तेरा सहारा …।
माँ मैं धन्य हो गया …

वो थपकी तेरे हाथों की ,
तेरी आहट मेरे पास आने की ।
बदन में जब आती थी ऊर्जा ,
प्यार से तूने हाथ से सहलाया …
माँ मैं धन्य हो गया …

न जब थी खाने की चिन्ता,
न चिन्ता थी मुझे सँवरने की ।
सुबह से संध्या तक मेरी,
हिफ़ाजत तेरे आँचल के सहारे थी ।।
माँ मैं धन्य हो गया….

आज मैं हो गया बड़ा,
न मिलती मुझे तेरे आँचल की हवा ।
रहता हूँ बेचैन हर समय,
पाने को तेरे प्यार भरे दो बोल ।।
माँ मैं धन्य हो गया…..

आर एस बौद्ध “आघात”
अलीगढ़

Voting for this competition is over.
Votes received: 54
14 Likes · 72 Comments · 336 Views
आर एस आघात
आर एस आघात
अलीगढ़
103 Posts · 2.8k Views
मैं आर एस आघात सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक में सहायक प्रबन्धक के पद पर कार्यरत...
You may also like: