माँ-ममता की निधि

“माँ” -ममता की निधि

कुछ आँसू ममता के होंते
कुछ खुशियो के ढ़र जाते है ।
कुछ तखलीफो के सागर में
मिलकर मोती बन जाते है ।

फिर भी लाती चुनकर ख़ुशियाँ
हर इक ताने बाने से ।
ममता की निधि देकरके वह
मर मिटती मुस्काने से ।

माँ के आँचल मे जन्नत है
आँचल की छाया मे प्यार ।
मिला जिसे वो धन्य हो गया
जड़ जङ्गम सारा संसार ।

चाहे माँ की वह लोरी हो
हो चाहे रूखा ब्यवहार ।
माँ से अलग नही हो सकता
माँ, माँ की ममता का प्यार ।

मौलिक एवं अप्रकाशित
रकमिश सुल्तानपुरी
सुल्तानपुर उत्तर प्रदेश

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 42

Like 8 Comment 29
Views 213

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share