.
Skip to content

माँ (मदर्स डे पर)

लक्ष्मी सिंह

लक्ष्मी सिंह

कविता

May 14, 2017

????
आम आदमी या ईश्वर अवतार,
माँ के दूध का सब कर्जदार।
माँ के छाती से निकला दूध,
जीवनदायिनी अमृत की बूँद।
?
माँ जीवन की शुरुआत पहली,
माँ ही अन्तिम शरण स्थली।
प्रथम प्यार,अहसास पहली,
माँ पीड़ा का अल्फाज पहली।
?
माँ जीवन का प्रथम अध्यापक,
माँ सुख दुःख में सदा सहायक।
माँ प्रथम मित्र,ज्ञान का दीपक,
माँ कठिन राह का पथ प्रकाशक।
?
माँ शब्द है सबसे प्यारा,
माँ में पूरा ब्रह्माण्ड समाया।
माँ शब्द स्वयं में पूर्णता,
माँ शब्द में शीतल पवित्रता।
?
माँ शब्द बीज सा छोटा,
बरगद की तरह विशाल।
माँ शब्द सबसे सुखद,
हृदयस्पर्शी,कवच व ढाल।
?
ईश्वर हर जगह पहुंच नहीं पाया,
इसलिए उसने माँ को बनाया।
स्वयं भी मातृत्व सुख को पाने,
बच्चा बन माँ के गोद में आया।
?
माँ से जीवन ही नहीं साँसों का नाता,
गर्भ में ही जीवन डोर बँध जाता।
माँ-बच्चो में खास बंधन होता,
जो जीवन प्रयत्न कभी खत्म नहीं होता।
?
माँ का कोख है एक देवालय,
जिसमें शिशु बढ़ता है निर्भय।

?
माँ का आँचल सुरक्षित ममत्व भरा,
माँ अंक में बचपन निश्चिंत हुआ बड़ा।
प्रेम,दया व वात्सल्य से भरा,
माँ का दिल है बहुत बड़ा।
?
माँ ब्रह्मा, विष्णु और महेश,
माँ में तीनों लोकों का समावेश।
माँ देवतुल्य,अति बहुमूल्य,
माँ का आज्ञाकारी प्रथम पूज्य गणेश।
?
माँ त्याग तपस्या की पराकाष्ठा,
प्रकृति सी माँ में सहनशीलता।
माँ के लिए सबकुछ है बच्चा,
माँ का प्यार है निस्वार्थ सच्चा।
?
माँ होती ईश्वर का वरदान,
माँ चलता फिरता भगवान।
माँ करती सबकुछ बलिदान,
माँ हर समस्या का समाधान।
?
माँ कर्तव्य की एक प्रतिमा,
माँ की ममता की कोई ना सीमा।
माँ के पास निस्वार्थ आत्मा,
माँ होती बिल्कुल परमात्मा।
?
माँ की क्रोध में भी करूणा,
माँ की मौन में भी ममता।
हर माँ होती जगदम्बा,
बच्चों के नींव का खम्भा।
?
माँ अनोखा, सुख, संतुष्टि और तृप्ति,
अपना हर सुख-शांति,प्रेम वात्सल्य लुटाती।
माँ देव दुर्लभ आशीर्वाद का कवच पहनाती,
कोई भी संकट जिसे भेद नहीं पाती।
?
माँ ज्ञान का असीम भंडार,
माँ में होता अनोखा चमत्कार।
माँ सृजन, माँ ही उद्धार,
माँ होती मुक्ति का द्वार।
?
माँ चरणों में काशी और प्रयाग,
माँ का कभी ना करना त्याग।
????-लक्ष्मी सिंह ??

Author
लक्ष्मी सिंह
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank... Read more
Recommended Posts
बिन माँ कुछ कल्पना नहीं
इस सृष्टि में भगवान है माँ के रूप में विघमान है बिन माँ कुछ कल्पना नहीं माँ है तो सारा जहान है जो हर लेती... Read more
माँ ......
माँ... माँ जीवन का आगाज़ है, माँ एक जीने का अंदाज़ है| माँ... माँ अपनेपन की आवाज़ है, माँ आनंद की आभास है| माँ... माँ... Read more
माँ नियति है
" माँ नियति है " ------------------- माँ गीता... माँ कुरान है ! माँ आन-बान और शान है | माँ ममता है माँ त्याग है !... Read more
माँ
माँ का हृदय नदी सा, जिसमें बहती ममता की धारा । माँ का वात्सल्य अंबर सा,जिसमें समाहित जग सारा ।। माँ दुख न बाँटती अपना,... Read more