.
Skip to content

” माँ ने किया अबोला है ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

August 11, 2017

काम काज है ,
फुरसत ना है ,
बांध दिया यह झूला है !
मां ने किया अबोला है !!

हवा से बातें करता हूँ तो ,
हंसी मुझे आ जाती है !
मां की झलक आंख बसी है ,
खुशियां ही दे जाती है !
होले से वह डोर खींच कर –
देती एक झकोला है !!

कामकाज को सभी गये हैं ,
में ही एक निठल्ला हूँ !
मां घर के सब काम सँवारे ,
में उनका दुमछल्ला हूँ !
आँचल में बस प्यार पल रहा –
बाकी चना चबोला है !!

नींद रात की उड़ जाती है ,
महफिल मेरे नाम सजे !
दीन देश की खबर मिले तो ,
मेरे भी हैं कान बजे !
देख देख में स्वांग बदलता –
सबने बदला चोला है !!

बात बात तकरार भी होती ,
पल पल में है रुख बदले !
देश समाज की में क्या जानूँ ,
मन मेरा भी है पिघले !
प्यार से रहना सीखें मुझसे
इसने ही झकझोला है !!

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ८ (अंतिम भाग)
अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ८ गतांक से से ............अंतिम भाग अगले रविवार का सोहित ने बड़ी बेसब्री से इन्तजार किया | सुबह... Read more
आजाद तेरी आजादी
भारत मां के अमर पुत्र "चन्द्रशेखर आजाद" की पुण्य तिथि पर मेरी एक तुच्छ सी रचना l रचना का भाव समझने के लिये पूरी रचना... Read more
अधूरी सी कहानी तेरी मेरी -भाग 1
दोस्तों एक प्रेम कहानी लिखने का प्रयास कर रहा हूँ, आज आप सभी के सामने प्रस्तुत है इस कहानी का पहला भाग। "अधूरी सी कहानी... Read more
चिड़िया फुर्र...
अभी दो चार दिनों से देवम के घर के बरामदे में चिड़ियों की आवाजाही कुछ ज्यादा ही हो गई थी। चिड़ियाँ तिनके ले कर आती,... Read more