23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

माँ- दुनिया का तुझमे प्यार नज़र आता है।

– माँ –
सारी दुनिया का तुझमें प्यार नज़र आता है।
मुझे तो तुझमें ही संसार नज़र आता है।
तू ही तो है वो जिससे दुनिया नज़र आती है,
सब कुछ बिन तेरे बेकार नज़र आता है।।

तू ही मोती है, तू ही खान हीरे-सोने की।
तू ही सूरत है एक बच्चे के खिलौने की।
तेरा ही हाँथ सबके माथे पर रखा है माँ,
तेरा चेहरा मुझे हर बार नज़र आता है।।

तू ही वात्सल्य, तू ही प्रेममय समर्पण है।
दया की मूरत, विशाल मन का दर्पण है।
तेरी सूरत किसी से भी नही तुल सकती माँ,
झुर्रियों में तेरा चेहरा सदाबहार नज़र आता है।

तेरी निर्धनता ही तो सबसे बड़ा धन है माँ ।
जिससे पाला है तूने मेरा ये जीवन है माँ ।
न जाने लोग तुझको कैसे छोड़ देते है,
मुझे तो अब भी वो दुलार नज़र आता है।

सारी दुनिया का तुझमे प्यार नज़र आता है।।

#प्रभात_पटेल_पथिक

This is a competition entry.
Votes received: 20
Voting for this competition is over.
6 Likes · 24 Comments · 51 Views
प्रभात पटेल
प्रभात पटेल
1 Post · 51 View
You may also like: