Skip to content

माँ तेरी याद के है बहुत मौके

Dinesh Sharma

Dinesh Sharma

कविता

August 1, 2016

जब गूंजते ये शब्द कानो में
किसी माँ के,
बेटा अभी खाया ही क्या है
ले एक और खा ले चपाती
तब माँ तेरी याद है बहुत आती
याद है बहुत आती।।

^^^^दिनेश शर्मा^^^^

Author
Dinesh Sharma
सब रस लेखनी*** जब मन चाहा कुछ लिख देते है, रह जाती है कमियाँ नजरअंदाज करना प्यारे दोस्तों। ऍम कॉम , व्यापार, निवास गंगा के चरणों मे हरिद्वार।।
Recommended Posts
तु भी माँ मैं भी माँ
माँ तेरी याद आती है जब बेटी को गुड़िया कह कर पुकारती हूँ तो तेरे मुहँ से अपने लिए मुनिया माँ। माँ तेरी याद आती... Read more
#))      माँ तुम याद आती हो     ((#
जब-जब चमकती है बारिश में बिजलियाँ माँ तुम याद आती हो। जब-जब बजती हैं कांच की चूड़ियाँ माँ तुम याद आती हो। जब-जब बनती हैं... Read more
तेरी याद सदा आती है
तेरी याद सदा आती है.... मुझको तू हरदम भाती है... रहता हूँ शांत भरोसों से ..... पर विकट व्यथित हूँ झरोखों से... है बहुत अधीर... Read more
माँ बहुत याद आती
हर पल हाेता है अहसास, रहती हाे सदा मेरे पास, याद तुम्हारी बहुत आती है माँ, अकेले मे बैठकर बहा लेता हूँ आंसू माँ, दिल... Read more