माँ तू है दुःख कबहूँ न होई

माँ जैसा न और है कोई,
माँ तू है दुःख कबहूँ न होई,
सूरज भी पश्चिम चल जाए,
चन्दा भी तो शीश झुकाए,
तारे भूमि पर आ टिमटिमाएँ,
सम्भव यह कर पाए जोई,
ऊहे त हमार माई होई,
माँ जैसा न और है कोई।
तुम दूर न हो सकती माँ,
जगत जन्मा जब तुम जन्मी माँ,
इसकी न तुम उसकी माँ,
माँ हो तुम सबकी माँ,
माँ पर न है नाम लिखा,
माँ पर अनमोल रतन बिका,
यमराज भी आगे तेरे झुका,
तुझ जैसा न और है कोई,
माँ तू है दुःख कबहूँ न होई।।

©® संदर्भ मिश्र पुत्र श्री नरेंद्र मिश्र,
ग्राम दफ्फलपुर,
पोस्ट व थाना रोहनियाँ,
जनपद वाराणसी, उत्तर प्रदेश, भारत-221108

Voting for this competition is over.
Votes received: 42
15 Likes · 80 Comments · 266 Views
जय हिंद जय मेधा जय मेधावी भारत
You may also like: