Nov 6, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

“माँ तु सर्वश्रेष्ठ”

तेरे सजल नैनो से, झलकती सदा प्रीत है।
हरपल लाड़-दुलार, तेरे आँचल की रीत है।।
तेरी काया मे रह,जन्म तुमसे ही पाया है।
तु ममता की मुरत, तेरा आँचल मेरा साया है।।

चलना, बढ़ना,सीखा, ज्ञान तुमहिं से पाया है।
दुख-दर्द बिसरा अपने,हमको शिखर पहुंचाया है।।
जब भी मै मायुस हुई , हौसला मेरा बढ़ाया है।
मेरे माथे की शिकन को,पल मे दुर भगाया है।।

मेरे जीवन का पल-पल , मां तेरा कर्जदार है।
बुना भविष्य सुनहरा, मुझ पर ये उपकार है।।
मेरी रचना का मां, तु ही एक आधार है।
क्या रचना करु मै तेरी, तु श्रेष्ठ रचनाकार है।।

Votes received: 156
16 Likes · 57 Comments · 1265 Views
रेखा कापसे
रेखा कापसे
83 Posts · 4.7k Views
Follow 7 Followers
नाम-रेखा कापसे, पता-होशंगाबाद मध्यप्रदेश, शिक्षा- BSc(biology)+GNM व्यवसाय- नौकरी "अभी तो चलना शुरु किया है, जह़न... View full profile
You may also like: