माँ तुम ही हो

खड़ा हूँ मैं बुलंदी पर, मगर आधार तुम ही हो
सुनो माँ मेरे जीवन का ,तो पूरा सार तुम ही हो
ख़ुशी में मेरी हँसती हो ग़मों में मेरे रोती तुम
मेरा भगवान तुम ही हो , मेरा संसार तुम ही हो

डॉ अर्चना गुप्ता

60 Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी प्यारी लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी,...
You may also like: