May 11, 2020 · कविता
Reading time: 1 minute

माँ ! तुझे सलाम

तेरी बाहों में जन्नत
तेरी दुआ में मन्नत
माँ ! तुझे सलाम।

तेरी अलकों में सपने
तेरी पलकों में अपने
माँ ! तुझे सलाम।

तेरी अश्क़ों में खुशियाँ
तेरे बस में है दुनियाँ
माँ ! तुझे सलाम।

तू ममता की साग़र
तू रमता है डागर
माँ ! तुझे सलाम।

तूने दिया जन्म मुझे
तूने किया मग्न मुझे
माँ ! तुझे सलाम।

तुम ईश्वर की मूरत
तुम ख़ुशियों की सूरत
माँ ! तुझे सलाम।

तुम क्यों इतनी अच्छी
तूम क्यों इतनी सच्ची
माँ ! तुझे सलाम।

तेरे कर्मों में हम हैं
तेरे धर्मों में हम हैं
माँ ! तुझे सलाम।

तुम पर है नूर का साया
हम तो हैं तुम्हारी छाया
माँ ! तुझे सलाम।

सब न्यारें हैं हमपर तुमने
सब बारें हैं हँसकर तुमने
माँ ! तुझे सलाम।

चलना तुमने सिखाया
हँसना तुमने सिखाया
जीना तुमने ही सिखाया
माँ ! तुझे सलाम।

देखकर तुम्हें खिल उठती हूँ
सोचकर हँस पड़ती हूँ
दूर होकर रो पड़ती हूँ
माँ ! तुझे सलाम।

तेरे सपनों में हम हैं
तेरे अपनों में हम हैं
माँ ! तुझे सलाम।

तेरे होने से सब कुछ
तेरे हँसने से हम ख़ुश
माँ ! तुझे सलाम।

तेरी बातों में प्यार
क़दमों में संसार
माँ ! तुझे सलाम।

तू रूठे, जग रूठा
तेरे सिवा सब कुछ झूठा
माँ ! तुझे सलाम।

तू बोले, जग डोले
तेरी मुस्कान है मेरी जान
माँ ! तुझे सलाम।

तुम ऐसी थी
ऐसी हो
ऐसी ही रहना।

सोनी सिंह
बोकारो (झारखंड)

4 Likes · 26 Views
Copy link to share
सोनी सिंह
50 Posts · 1.3k Views
Follow 1 Follower
मैं सोनी सिंह बोकारो स्टील सिटी,झारखंड,भारत की निवासी हूँ। मेरा पैतृक निवास नालन्दा जिला,बिहार है।... View full profile
You may also like: