“ माँ गंगा ”

गंगा कल-कल करती जाती अविचल ,
मन है जिसका चंचल, हृदय स्वच्छ निर्मल ,
बह जाते जिसमें सारे के सारे दावानल ,
फिर भी जल है जिसका रहता शुभ मंगल I

फुदक-फुदक कर सन्देश दे प्रतिछण ,
बढ़ते जाओ खुद को बनाओ विलछण ,
जीवन में तभी तुम बनोगे कर्मठ-सबल,
मुझसे दूषित भी मिलकर बन जाते गंगाजल I

“माँ गंगा” का एक सन्देश :

मेरे आँगन में सब है जैसे एक थाल समान ,
खुद को ऐसा संवारो कोई न कर सके सवाल ,
सबको बता दो, जग में तुम हो एक बेमिसाल ,
“इंसानियत” से बढ़कर नहीं कोई धर्म मेरे लाल I

तेरे घर-आँगन में खेलता “राज ” हर पल ,
तुम ही बढ़ाती जाती हमेशा इसका मनोबल,
मन में उमंग, संघर्ष शीलता तुम्हारा तपोबल ,
सदियों तक रहोगी तुम, शुभ-मंगल गंगा जल I

गंगा कल-कल करती जाती अविचल ,
एक रहने की सीख बताती जाती प्रतिपल I

देशराज “राज”कानपुर

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 25

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 4 Comment 53
Views 111

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share