Skip to content

माँ की संदूकची —–कविता

निर्मला कपिला

निर्मला कपिला

कविता

July 18, 2016

माँ की संदूकची

माँ तेरी सीख की संदूकची,

कितना कुछ होता था इस मे

तेरे आँचल की छाँव की कुछ कतलियाँ

ममता से भरी कुछ किरणे

दुख दर्द के दिनों मे जीने का सहारा

धूप के कुछ टुकडे,जो देते

कडी सीख ,जीवन के लिये

कुछ जरूरी नियम

तेरे हाथ से बुनी

सीख की एक रेशम की डोरी

जो सिखाती थी

परिवार मे रिश्तों को कैसे

बान्ध कर रखना

और बहुत कुछ था उसमे

तेरे हाथ से बनी

पुरानी साढी की एक गुडिया

जिसमे तेरे जीवन का हर रंग था

और गुडिया की आँखों मे

त्याग ,करुणा स्नेह, सहनशीलता

यही नारी के गुण

एक अच्छे परिवार और समाज की

संरचना करते हैं

तभी तो हर माँ

चाव से दहेज मे

ये संदूकची दिया करती थी

मगर माँ अब समय बहुत बदल गया है

शायद इस सन्दूकची को

नये जमाने की दीमक लग गयी है

अब मायें इसे देना

“आऊट आफ” फैशन समझने लगी है

समय की धार से कितने टुकडे हो गये है

इस रेशम की डोरी के

अब आते ही लडकियाँ

अपना अलग घर बनाने की

सोचने लगती हैं

कोई माँ अब डोरी नही बुनती

बुनना सिलना भी तो अब कहाँ रहा है

अब वो तेरे हाथ से बनी गुडिया जैसी

गुडिया भी तो नही बनती

बाजार मे मिलती हैं गुडिया

बडी सी, रिमोट से चलती है

जो नाचती गाती मस्त रहती है

ममता, करुणा, त्याग, सहनशीलता

पिछले जमाने की

वस्तुयें हो कर रह गयी हैं

लेकिन माँ

मैने जाना है

इस सन्दूकची ने मुझे कैसे

एक अच्छे परिवार का उपहार दिया

और मै सहेज रही हूँ एक और सन्दूकची

जैसे नानी ने तुझे और तू ने मुझे दी

इस रीत को तोडना नही चाहती

ताकि अभी भी बचे रहें

कुछ परिवार टूटने से

और हर माँ से कहूँगी

कि अगर दहेज देना है

तो इस सन्दूकची के बिना नही

Share this:
Author
निर्मला कपिला
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you