Nov 11, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

माँ की महिमा

ज्ञानवती होती है माता, मन की भाषा पढ़ लेती है ।
संतानें कब क्या चाहती, अनुभूति से तड़ लेती है ।
इतने गहरे मनोज्ञान को, कैसे मैं कविता में बांधूँ ॥

आकाश सी व्यापक ममता, जो सुन लेती चित धरती है ।
गीता रामायण की शिक्षा, संतानों को नित देती है ।
संस्कारमय उसकी शिक्षा, गुरुकुल की शिक्षा ही मानूँ ॥

जीवन मूल्य मानवी चिंतन, गौ मुख से निकली जलधारा ।
सरस्वती को अंक समेटे, पी जाती दुख दर्द हमारा ।
जहाँ मुखर हो हर हर गंगे, उसके मन को कैसे नापूँ ॥

कष्टों में धीरज धारण कर, स्वाभिमान हित लड़नेवाली ।
परिवार पर कष्ट आये तो, जब तक प्राण, करे रखवाली ।
माँ की महिमा गाऊँ कहाँ तक, जग जाने मैं बता न पाऊँ ॥

लक्ष्मी नारायण गुप्त
ग्वालियर (मध्य प्रदेश)

Votes received: 25
7 Likes · 34 Comments · 103 Views
Copy link to share
Laxminarayan Gupta
81 Posts · 2.2k Views
Follow 1 Follower
मूलतः ग्वालियर का होने के कारण सम्पूर्ण शिक्षा वहीँ हुई| लेखापरीक्षा अधिकारी के पद से... View full profile
You may also like: