Nov 19, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

माँ की महिमा (दोहे)

माताजी के चरण की, महिमा रही अपार।
बस भगवन के रूप में, मुझे दिखी हर बार।।
माताजी के चरण है, हर भगवान से खास।
अब गुरुर कैसे करूं, बैठा नहीं उदास।।
माताजी के संग में, साथ रहे परिवार।
ऐसा जीवन धन्य है, नरक नहीं संसार।।
माताजी को कष्ट हो, कार्य और व्यवहार।
चाहे जितनी अर्चना, पूजा है बेकार।।
हर माता यह चाहती, बेटा बने सपूत।
जिन्दा ही मर जाय गी, कोई कहे कपूत।।

नाम-मुकेश भाई पटेल
तहसील-बिन्दकी
जिला-फतेहपुर

Votes received: 28
8 Likes · 28 Comments · 143 Views
Copy link to share
You may also like: