माँ की भगवद्भक्ति

माँ की गोद में जब मैंने नयनाभिराम खोले थे ।
माँ ने अपने मुख से पावन शब्द सीताराम बोले थे ।।
माँ को सीताराम पतित पावन शब्द अतिप्यारा है ।
सीताराम की महिमा गान जग में अतिन्यारा है ।।
रामनाम का सुमिरन कर माँ मुझसे कहती है ।
सीताराम की माला सारी विपदा हरती है ।।
माँ की भगवद् भक्ति में राम नाम पालनहार है ।
रामनाम का जाप करो कहती होता बेड़ापार है ।।

निहाल छीपा
गाडरवारा
(यह रचना स्वरचित मौलिक एवं अप्रकाशित है इस प्रतियोगिता की सभी शर्ते मुझे मान्य है ।)

Voting for this competition is over.
Votes received: 27
5 Likes · 38 Comments · 177 Views
मैं निहाल छीपा नवल गाडरवारा जिला नरसिंहपुर मध्यप्रदेश से हूं काव्य सरिता साहित्यक संस्था संस्थापक...
You may also like: