माँ का महत्व (जीवन का सार माँ का प्यार)

केवल शब्द नही है ‘माँ’ बल्कि बालक का पूरा संसार है।
जिससे उत्पन्न हुआ ये जग सारा ‘माँ’ ऐसा अलौकिक अवतार है।
जब -जब धरती पर आए प्रभु तो उन्होंने भी माँ के है पाँव पखारे
उसकी गोद मे खेले है, स्वयं जगदीश्वर जो स्वयं जगत के पालनहार है।
माँ न होती तो जीवन कहाँ से पाते, उसकी ममता की छाया बिना कैसे पल पाते।
ममता और त्याग की मूरत है माँ, धरती पर प्रथम गुरु की सूरत है माँ।
जो जीवन जिये वो ‘श्रेष्ठ’ हो कैसे, हमको बताती हमारी है माँ।
प्रेम में ही नही दण्ड में भी दिए ‘माँ’ के वरदान है।
अगर कैकयी न भेजती वन राम को, तो क्या कोई कहता भगवन राम को।
केवल जीवनदाता नही अपितु भाग्यविधाता भी है माँ ।
जो न पूजे माँ को उसे धिक्कार, उसका जीवन जीना ही बेकार है।
त्रिलोक की वैभव सम्पदाओं से भी बढ़कर ‘माँ’ का प्यार है।

आवरण अग्रवाल “श्रेष्ठ”
निकट रामचन्द्र शर्मा कन्या इंटर कॉलेज
चंद्रनगर , मुरादाबाद- 244001

Voting for this competition is over.
Votes received: 65
10 Likes · 58 Comments · 654 Views
आवरण अग्रवाल "श्रेष्ठ" युवा कवि और समाज सेवी पेशे से अधिवक्ता है। प्रशिक्षक(उ०प्र०) नेहरू युवा...
You may also like: