माँ (एक गुजारिश)

नन्हें की माँ से है आज एक गुजारिश ।
ज्यादा कुछ नहीं बस एक छोटी सी सिफारिश ।
आज से एक नवजीवन की शुरुआत करे ।
वर्षगांठ के साथ कुछ और बातें याद करे ।
बच्चे का पालन बहुत बड़ी उपाधि है ।
किसी ने निभाई पूरी तो किसी ने निभाई आधी है ।
उसे ऐसे ऐसे संस्कार सिखाना ।
सफल हो उसका इस धरा पर आना ।
ऐसे ऐसे वो प्रयास करे ।
खुद भी हो विकसित , समाज का भी विकास करे ।
माँ की उपाधि बहुत बड़ी जिम्मेदारी है ।
पर आजकल दुनिया इससे भागती जा रही है ।
इरादा नहीं किसी अच्छी माँ पर कटाक्ष करूँ ।
पर कोशिश है कि सोई माँ को जगाने का प्रयास करूँ ।
आज की पीढ़ी आधुनिक होती जा रही है ।
हमारी सभ्यता को डुबोती जा रही है ।
बन जाये आपका नन्हा कुल का अच्छा वारिस ।
ज्यादा कुछ नहीं बस एक छोटी सी सिफारिश है।
आज से एक नवजीवन की शुरुआत करे।
हर वर्षगांठ पर ये सब बातें याद करे।

कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा

Voting for this competition is over.
Votes received: 62
13 Likes · 80 Comments · 322 Views
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने...
You may also like: