.
Skip to content

माँ आदिशक्ति

sunil soni

sunil soni

कविता

March 29, 2017

आदिशक्ति जगजननी
ज्वाला रूपी जगदम्बे ।
कष्ट मिटा दो तिमिर हटा दो
राह दिखाओ हे अम्बे ।।

एक बने हम नेक बने हम
शरण तुम्हारी हे अम्बे ।
तेरी महिमा दुनिया जाने
जयति जयति माँ जगदम्बे ।।

बिछुड़ गए जो उन्हें मिला दो
सबके बिगड़े काज बना दो ।
हाथ जोड़ हम स्तुति गावें
नमामि दुर्गे नमामि अम्बे ।।

सहज रूप में तुम हो अम्बा
जगजननी तुम हो जगदम्बा ।
काल देख बन जाती काली
जय दुर्गे जगदम्बे अम्बा ।।

नवदुर्गा एवम् नववर्ष के पावन पर्व पर सभी को मंगलमयी शुभकामनायें ।

सुनील सोनी “सागर”
चीचली (म.प्र.)

Author
sunil soni
जिला नरसिहपुर मध्यप्रदेश के चीचली कस्बे के निवासी नजदीकी ग्राम chhenaakachhaar में शासकीय स्कूल में aadyapak के पद पर कार्यरत । मोबाइल ~9981272637
Recommended Posts
नमो-नमो हे माँ अम्बे।
????? हे मूलाधारनिवासिनी, परधामनिवासिनी, विन्धयवासिनी माँ दुर्गे। नमो-नमो हे माँ अम्बे। हे श्मशानविहारिणी, ताण्डवलासिनि, महाविलासिनी माँ दुर्गे। नमो-नमो हे माँ अम्बे। हे जगविहारिणी, निशिचरविदारिणी, मुक्तिकारिणी... Read more
हम = तुम
हम अल्लाह तुम राम हम गीता तुम क़ुरान हम मस्ज़िद तुम मंदिर हम काशी तुम मदीना हम जले तुम बुझे तुम जले हम बुझे हम... Read more
विकट तेरी महिमा
????? * विकट तेरी महिमा * ****************** विकट तेरी महिमा जग ने जानी है , ओ जगदम्बे मात ! * कियौ महिषासुर नै अभिमान ,... Read more
धरती माँ की बेटी हैं हम! जैसी माँ है वैसी हैं हम!! धरती का ऋंगार है हमसे, ये सारा संसार है हमसे, धरती की हरियाली... Read more