माँ

गर्म तवे से हाथ जला जब
तुमने अपना फर्ज निभाई
स्तन से बूंदे टपकाकर
मेरे जख्मों पर लेप लगाई
कैसे भूलूं तेरा उपकार
कैसे दूध का कर्ज चुकाऊँ
तेरे चरणों की धूल को “माँ”
माथे पर मैं तिलक लगाऊँ
***********************
राजेश बन्छोर
हथखोज (भिलाई), छत्तीसगढ़, 490024

Voting for this competition is over.
Votes received: 27
4 Likes · 22 Comments · 208 Views
"कुछ नया और बेहतर लिखने की चाह......" राजेश बन्छोर "राज" शिक्षा - सिविल इंजीनियरिंग में...
You may also like: