महिला दिवस

वेदों में माता तुम, पुराणों की गाथा तुम
नव स्वरूपों की अधिष्ठाता तुम…

जननी, सुता, सहचरी, प्राण
निहित है तुममे सृष्टि का कल्याण…

सरस्वती रूपा ज्ञान-विज्ञान
शक्ति स्वरूपा दुर्गा के नवरूप का करे गान…

ब्रह्मा का अमूल्य विधान
आँचल तले सुधा पान…

प्रकृति, धरती तुमसे विद्यमान
भारत माता का आह्वान ससम्मान…

सुनील पुष्करणा
(08/03/2017)
महिला दिवस की अनंत शुभकामनाएं….

Like Comment 0
Views 15

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share