महामारी में किताबों से दोस्ती 

महामारी में किताबों से दोस्ती
——————-प्रियंका सौरभ

आदमी जब ठहरता है तो इस विश्रांति में जो जीवन है उसकी झलक देखने को मिलती है। इन मुश्किलों में भी जीवन का आस्वाद और कहीं न कहीं मानव जाति पर छाए इस घनघोर संकट के लिए कुछ पलों के लिए गहरी उदासी तथा चिंता में डूब जाता है। इस ठहराव से सृजन के जो क्षण उपलब्ध कराए, वो पुस्तकें ही सकती है और पुस्तकों में जी भर डूबने का जो अवसर मिलता है, वह स्मृतियों में हमेशा दर्ज रहता है।

किताबें हमारे जीवन को सजाती-संवारती हैं। कहते हैं कि “जब आप एक किताब खोलते हैं, आप एक नई दुनिया खोलते हैं ”। मुझे विश्वास है कि हर कोई इस कथन से सहमत होगा चूंकि किताबें हमेशा से सभ्य दुनिया काअविभाज्य हिस्सा रही हैं। ज्यादातर लोगों के लिए, किताबें उनकी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा हैं। किताबें हमारी सबसे अच्छी दोस्त हैं जो कभी आपसे दूर नहीं चलती, आपके पास रहती है. हर वक़्त आपको कुछ समझाने-बताने और नया सिखलाने के लिए।

पुस्तकें ज्ञान से भरी होती हैं, जीवन में एक अंतर्दृष्टि देती हैं, जरूरत के समय मददगार सलाह के अलावा, प्यार करना सिखाती हैं और डर को खत्म करना सिखाती हैं, आपने कभी सोचा कि अगर बुद्धिजीवियों ने कभी अपने समय का दस्तावेज नहीं बनाया तो क्या हुआ होगा? एक पुस्तक ज्ञान का संचार करती है और एक पीढ़ी से दूसरे को ज्ञान प्रसारित भी करती है। “जितना अधिक आप पढ़ते हैं, उतना ही अधिक, अच्छी तरह से आप पढ़ रहे हैं ”। सरल शब्दों में इसका अर्थ है यह है कि जितना अधिक आप पढ़ते हैं आप उतने अधिक नई वास्तविकताओं से परिचित होते हैं । आपका नजरिया बदल जाता है और आपके विचार और कल्पना चौड़ी हो जाती है। मेरा मानना है कि किसी व्यक्ति का व्यक्तित्व और व्यवहार सभी पुस्तकों का प्रतिबिंब होता है

जैसा कि पूर्व में कहा गया है – “सीखने से रचनात्मकता मिलती है, और रचनात्मकता सोचने की ओर ले जाती है, सोच ज्ञान प्रदान करती है, ज्ञान आपको महान बनाता है। ” किताब एक बहुत ही सीधे काम की तरह होता है, क्या यह नहीं है? यदि आप पूरी तरह से मनोरंजन या आराम के लिए पढ़ रहे हैं, तो यह निश्चित रूप से इतना आसान हो सकता है। आपको यह जानकर आश्चर्य हो सकता है, पुस्तक को खोलना और शब्दों को पढ़ना जितना सरल है, उतना और कुछ भी नहीं है। मेरा मानना है कि ज्ञान प्राप्त करने के लिए ज्ञान की आवश्यकता होती है।

यह एक भयावह समय है। हम कोरोना के बीच में हैं, दुनिया भर में महामारी ने शहरों ,गाँवों, पूरे देशों को बंद कर दिया है। हम में से कुछ ऐसे क्षेत्रों में हैं जो पहले से ही है कोरोना से प्रभावित है। क्या हो सकता है? हम सभी सुर्खियों में देख रहे हैं और सोच रहे हैं, “आगे क्या होने जा रहा है?” हम सभी को आश्वासन, सलाह की जरूरत है, इस मुश्किल समय के दौरान सहानुभूतिपूर्ण सहायक रूप में किसे चुनते हैं। कोरोनावायरस केवल एक संक्रामक चीज नहीं है जिससे हमको लड़ना है, सबसे ज्यादा जरूरी तो आज भावनाएँ हैं जिनको हमे मजबूत बनाकर रखना है, उन लोगों के साथ वायरस के बारे में बात करने से बचें जो नकारात्मक हो सकते हैं, अपने जीवन में उन लोगों की ओर मुड़ें जो विचारशील, स्तर-प्रधान और अच्छे श्रोता हैं। यदि आपके पास ऐसे लोग नहीं है जिस पर आप भरोसा करते हैं, तो ऐसे समय आपकी सच्ची साथी पुस्तकें हो सकती है, अच्छी पुस्तकों को चुने और खुद को मजबूत करें

ये महामारी एक विशाल वैश्विक स्वास्थ्य संकट बन चुकी है। क्योंकि संकट से निपटने के लिए बड़े स्तर की आवश्यकता होती है जो व्यवहार परिवर्तन और व्यक्तियों पर महत्वपूर्ण मनोवैज्ञानिक बोझ डालता है, अंतर्दृष्टि और व्यवहार विज्ञान महामारी विज्ञानियों और सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सिफारिशों के साथ मानव व्यवहार को संरेखित करने में मदद करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

तनाव को विभिन्न तरीकों से कम किया जा सकता है जैसे कि जॉगिंग के लिए जाना, अपने पसंदीदा गाने सुनना, और खाना पकाने से भी और सफाई। लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि किताबें पढ़ना जादुई हो सकता है। जब भी आप अकेला या उदास महसूस करते हैं, बस एक किताब खोलो और अपने आप को मुक्त शब्दों में खो दो । कहानियों और शब्दों का विशेष रूप से मानव मन को पढ़ने और चंगा करने की शक्ति रखता है,जब आप कहानियां पढ़ते हैं, तो अपने खुद के लक्षण उन पात्रों में देख रहे हैं जो आप से संबंधित होते हैं

उनके और खुद के बीच समानताएं ढूंढंते हैं। आपको लगता है जैसे आप उस व्यक्ति के समान हैं जो कहानी में बात करता है, चरित्र की गैर-मौजूदगी के बावजूद, आप अभी भी उन्हें समझें और उनके लिए हर तरह की सोच रखकर आप उससे जुड़ते गए, इससे सहानुभूति का मानवीय भाव जगता है। जब आप उन लोगों से मिलें जो कुछ हद तक आपके द्वारा लिखे गए पात्रों के समान हैं, आप उन्हें समझने लगते हैं और उनसे सहानुभूति रखते हैं।

पढ़ना हर चिंता को सुलझाने में मदद करता है, मन में अच्छा सोचा हुआ मस्तिष्क पर सुखदायक प्रभाव डालता है। जैसे-जैसे आप पात्रों के माध्यम से कहानी में आगे बढ़ते हैं, आपके विचार और अवरोध आपके साथ यात्रा करते हैं। यह सच है, जब आपके पास एक किताब होती है, तो आपके पास एक दोस्त होता है। पढ़ना अलगाव और अकेलेपन की भावनाओं को कम करता है। इन लक्षणों में कमी से कई रोगों का इलाज किया जा सकता है जैसे मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं- चिंता और अवसाद।

किताबें सबसे शांत और सबसे स्थिर दोस्त हैं; वे सबसे सुलभ हैं वे काउंसलर और सबसे सुलभ और बुद्धिमान हैं, शिक्षक हैं हमारी । पुस्तकों में हमें नई दुनिया और अलग-अलग समय में ले जाने की शक्ति है, किताबें हमें अपने जीवन में महत्वपूर्ण क्षणों पर वापस ले जाने की अपार सकती रखती है।

मानव शरीर को स्वस्थ रखने के लिए जिस तरह भोजन की आवश्यकता होती है। उसी तरह ज्ञान अर्जन के लिए पुस्तकों की आवश्यकता है। वर्तमान समय में लोगों की रूचि पुस्तकों से कम हुई है मगर अब भी बहुत लोग पुस्तकों के प्रेमी हैं। स्वरूप बदला है अब ई-बुक और डिजिटल संस्करणों से भी लोग पुस्तक पढ़ते हैं। किताबें आज भी हमारी धरोहर है। किताबों में इतना खजाना छुपा है जितना कोई लुटेरा कभी लूट नहीं सकता। किताबें ज्ञान की भंडार होती हैं। इसे सच्चा मित्र और मानव समाज की अनमोल संपत्ति मानी गई है। पुस्तकें इंसानों को संस्कार देती है, उन्हें गढ़ती हैं।
—-प्रियंका सौरभ

Like 1 Comment 1
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share